Breaking News
Home / Celebretions / Entire world has experienced evil consequences of terrorism: Vice President

Entire world has experienced evil consequences of terrorism: Vice President

Entire world has experienced evil consequences of terrorism: Vice President
Addresses 52nd Raising Day Ceremony of BSF  

 

The Vice President, Shri M. Venkaiah Naidu addressing the gathering, on the occasion of 52nd Raising Day Ceremony, in New Delhi on December 01, 2017.

The Vice President of India, Shri M. Venkaiah Naidu has said that entire world is aware and has experienced the evil consequences of the terrorism. He was addressing the 52nd Raising Day Ceremony of Boarder Security Force (BSF), here today. The Director General of BSF, Shri K.K. Sharma and other dignitaries were present on the occasion.The Vice President said that the discipline and the physical fitness was displayed with smart parade done by all the BSF jawans. He further said that all the jawans have displayed their strengths and preparedness. Their service is exemplary and the country is proud of them, he added.The Vice President said that they remain on the borders even in most difficult situations like sandy disserts of Rajasthan, snowy peaks of Kashmir and slippery areas of Rann of Gujarat. He further said that their roles in UN peace keeping missions, their success of the sports and a wide range of social welfare programs make them different. It would be fair to say that we can go to sleep only when they wake up, he added.The Vice President said that while working as ‘India’s First Line of Defence’, 1856 BSF personnel have made their supreme sacrifice on the line of duty. He further said that more than 2000 gallantry medals are recorded in this force’s account and this sacrifice and this honor is the heritage of our nation on which the country is proud. We salute the forces that have made supreme sacrifice in the line of their duty, he added.The Vice President said that ours’ is an ancient culture and we never attacked any country. India is very strong in its cultural heritage and welfare of all human beings is its motto. He further said that India wants to have good relations with all its neighbours but one of its neighbours wants to create problems including intruding in to its land. He further said that the neighbour is not taking any steps to tackle terrorism and they fund, encourage and promote it. The danger of terror is experienced by everyone on the globe, he added.The Vice President said that terrorism has no caste, no religion and there is nothing like good terrorist or bad terrorist. He further said that terrorist is enemy of the mankind. Entire world has to understand this and try to resolve by taking stringent actions through the United Nations, he added.

Following is the text of Vice President’s address in Hindi:

“India’s First Line of Defence, BSF के बहादुर अधिकारियों और जवानों, प्रहरी परिवार तथा मीडिया सदस्यों। देवियों और सज्जनों,

  1. आज का दिन न सिफ सीमा सुरक्षा बल के लिये, बल्कि पूरे देश के लिए विशेष महत्व का है। आज सीमा सुरक्षा बल अपनी बावनवीं वर्षगांठ मना रहा है। इस अवसर पर राष्ट्र आप सभी सीमा सुरक्षा बल सदस्यों को बधाईयां देता है। साथ ही यह देश कामना करता है कि पिछले बावन वर्षों से आपने जिस कुशलता से सीमाओं की रक्षा की है व अपनी सभी जिम्मदारियों को निभाते हुए देश को सुरक्षित रखा है, आपकी वह क्षमता दिन प्रतिदिन बढ़ती रहे।
  2. मैं इस अवसर पर आप सबके बीच आकर स्वयं को भाग्यशाली समझ रहा हूँ। आपने इस ऐतिहासिक अवसर पर मुझे आमंत्रित किया और मुझे सीमा सुरक्षा बल दिवस की इस भव्य परेड को देखने का अवसर दिया, इसके लिए मैं महानिदेशक सीमा सुरक्षा बल सहित आप सभी सदस्यों को धन्यवाद देता हूँ।
  3. एक अनुकरणीय अनुशासन परेड के शानदार प्रदर्शन के लिये मैं परेड के सभी दलों की सराहना करता हूँ।
  4. वीर सीमा प्रहरियों, सभी देशवासियों को आप पर गर्व है। पिछले बावन वर्षों से आपने निष्ठा से कर्त्तव्य निभाते हुए जिस तरह राष्ट्र की सीमाओं को सुरक्षित रखा है, उसकी जितनी भी प्रशंसा की जाये, वह कम होगी। राजस्थान की तपती रेत से लेकर गुजरात के रण के दलदली इलाके सहित कश्मीर की बर्फीली चोटियों जैसे जटिल भौगोलिक परिवेश और कठिन से कठिन स्थितियों में भी आप सीमाओं पर निरंतर डटे रहते हैं। सीमापार से होने वाली गोलीबारी हो या फिर विभिन्न वस्तुओं की तस्करी सहित अन्य सीमावर्ती अपराध, देश को नुकसान पहुंचाने देश के दुश्मनों के खिलाफ आप फौलाद की तरह खड़े हैं। यह कहना उचित होगा कि आप जागते हैं तभी हम सो पाते हैं।
  5. इसके साथ ही सीमाओं पर आपकी मुस्तैदी और शत्रुओं के विरूद्ध आपकी जवाबी कार्रवाई, सीमावर्ती गाँवों के नागरिकों में आपके और देश की सुरक्षा व्यवस्था के प्रति विश्वास जगाती है। हालाँकि दुश्मन अब भी अपने नापाक इरादों से बाज नहीं आ रहा, फिर भी जिस तरह से आप उसके प्रहार को लगातार विफल कर रहे हैं, उससे वह बौखलाया जरूर है।
  6. चुनाव, दंगों इत्यादि ड्यूटियों सहित आपदा प्रबंधन में भी आप पूरी तत्परता से देश के साथ खड़े रहते हैं। मुझे इस बात पर गर्व हे कि आपकी ड्यूटियों में मानवाधिकारों का सम्मान निहित रहता है जिसके कारण आप पर मानवाधिकारों के उल्लंघन का दोष नहीं लगता।
  7. समय कम है, अगर आपकी उपलब्धियों और राष्ट्र की रक्षा में आपके योगदान के बारे में कहने लगा जाये तो शायद घंटों का समय भी कम पड़ेगा। संयुक्त राष्ट्र अभियानों में आपकी भूमिकाएं, खेल के मैदानों की आपकी सफलताएं और समाज कल्याण के ढेर सारे कार्यक्रम आपको अलग पहचान देते हैं।
  8. साथियों, अक्तूबर महीने में श्रीनगर एयरपोर्ट के पास आपके कैंप पर हुए हमले को आपने जिस सामरिक कुशलता से विफल किया वह आपके युद्ध-कौशल एवं मजबूत इरादों को दर्शाता है। इस तरह की कार्रवाइयों ने आतंकवादियों को साफ संदेश दिया है कि हमारे सशस्त्र बल और हमारी सेनाएं उनके निबटने के लिए पूरी तरह सक्षम हैं।
  9. जैसा कि महानिदेशक सीमा सुरक्षा बल ने बताया कि राष्ट्र की प्रथम रक्षा पंक्ति के रूप में कार्य करते हुए 1856 सीमा प्रहरियों ने कर्तव्य की वेदी पर अपने प्राणों की आहुति दी है। 2000 से भी अधिक वीरता के पदक इस बल के खाते में दर्ज है। ये बलिदान और ये सम्मान राष्ट्र की धरोहर है जिनपर देश को अभिमान है। देश की खातिर वीरगति को प्राप्त होने वाले इन सीमा प्रहरियों को शत-शत नमन।
  10. वीर सीमा प्रहरियों, आपको आधुनिक तथा शक्तिशाली बनाने के लिये सरकार निरंतर प्रयासरत है। हथियार उपकरणों की खरीद पर और आपकी सुविधाओं पर, सरकार एक भारी-भरकम राशि खर्च कर रही है। कल्याण की भी ढेर सारी योजनाएं प्रस्तावित हैं। इनमें से कुछ पर कार्य हो चुका है और कुछ विचाराधीन हैं। इन पर शर्मा जी प्रकाश डाल चुके हैं। फिर भी, भारत सरकार के प्रतिनिधि के तौर पर मैं, आपको आश्वस्त करना चाहूंगा कि सरकार आपको शक्तिमान बनाने के लिये तथा आपके और आपके परिवार के कल्याण के लिये हर संभव कदम उठा रही है।
  11. Our culture is very ancient. We never attacked any country in our history. We are very strong in our cultural heritage. Welfare of all human beings is our motto. It is our philosophy, it is our dharma. This is what we believe and what we practice. We do not face any problem with others. India wants to have good relations with all out neighbours. But, unfortunately one of our neighbours wants to create problems including intruding to our land. One of our neighbour is not taking any steps to tackle terrorism. Unfortunately, they fund, encourage it. The danger of terror is experienced by everyone on the globe. Entire world is aware of the evil consequences of the terrorism. But our neighbour is going ahead on that path.
  12. Terrorism has not caste, no religion. There is nothing like good terrorist or bad terrorist. Terrorist is a terrorist. He is enemy of the mankind. Entire world has to under stand this and try to resolve by stringent actions by the United Nations.
  13. If there is a tension in the boarder, there will not be attention on development. Pease is needed to take development and good governance forward in the nation.
  14. प्रहरी साथियों, आपकी कर्त्तव्य भावना, बहादुरी और निष्ठा को नमन है। देश जानता है कि आपका जीवन कठिन है, आपकी राहें कंटीली हैं और आपका जीवन तपस्या व बलिदान की गाथा है। आपका यह त्याग करोड़ों देशवासियों को अमन-चैन प्रदान करता है तथा देश के विकास को गति देता है। देश की तरफ से मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि आप निष्काम भाव से अपना धर्म निभाएं, देश आपके प्रति अपना फर्ज निभाएगा।

धन्यवाद, जय हिंद।

About surendrahota

Leave a Reply

%d bloggers like this:
Skip to toolbar