Breaking News
Home / National / Shri Rajnath Singh inaugurates second meeting of National Platform on Disaster Risk Reduction

Shri Rajnath Singh inaugurates second meeting of National Platform on Disaster Risk Reduction

Shri Rajnath Singh inaugurates second meeting of National Platform on Disaster Risk Reduction
Theme of the meeting is “Disaster Risk Reduction for Sustainable Development: Making India resilient by 2030”

The Union Home Minister, Shri Rajnath Singh chairing a Ministerial Session during second meeting of the National Platform for Disaster Risk Reduction (NPDRR), in New Delhi on May 15, 2017.The Union Minister for Women and Child Development, Smt. Maneka Sanjay Gandhi, the Union Minister for Agriculture and Farmers Welfare, Shri Radha Mohan Singh, the Ministers of State for Home Affairs, Shri Hansraj Gangaram Ahir and Shri Kiren Rijiju, the LG of Andaman and Nicobar Islands, Prof. Jagdish Mukhi and other dignitaries are also seen.

The Union Home Minister Shri Rajnath Singh inaugurated the two-day second meeting of National Platform for Disaster Risk Reduction (NPDRR) here today. The theme of the Second meeting of NPDRR is “Disaster Risk Reduction for Sustainable Development: Making India resilient by 2030”. The Union Minister for Science & Technology and Earth Sciences, Dr. Harsh Vardhan, the Minister of State for Home Affairs, Shri Kiren Rijiju and Additional Principal Secretary to Prime Minister Dr. P. K. Mishra were also present on the occasion. The NPDRR is a multi-stakeholders National Platform headed by the Union Home Minister and it promotes participatory decision making in disaster management, and strengthens federal policy of our country. Speaking on the occasion, Shri Rajnath Singh said that NPDRR is a multi-stakeholders National Platform for sharing the experiences in disaster management and for making a collective effort for disaster risk reduction.  He emphasized the role of prevention and mitigation in reducing disaster losses. He pointed out that 1 extra Rupee spent on disaster preparedness and mitigation could save 10 Rupees of disaster loss. He recollected global agreements like Sendai Framework, Sustainable Development Goal and Paris Agreement on Climate Change (COP21) for disaster risk reduction. He highlighted the ongoing efforts of Governments in disaster risk reduction like preparation of disaster management plan and policy, development of early warning systems, construction of cyclone shelters and saline embankments, raising of disaster response forces at national and state levels and capacity building of communities through continuous training and awareness programme.Shri Rajnath Singh also shared the recent initiatives of Government of India for increasing the regional co-operation, like launching of dedicated satellite for South Asian Countries, Asian Ministerial Conference on Disaster Risk Reduction (AMCDRR) 2016 and setting up of SAARC disaster management centre. He appealed to the stakeholders to prevent “preventable death” caused by disasters and also prepare an action plan for vulnerable communities of societies. As sustainable developments are closely related with better disaster management, he urged all stakeholders to make all development initiatives disaster resilient. He informed that 14 pre-events were organized as build up to this meeting.Shri Kiren Rijiju, Union Minister of State for Home Affairs, informed that India is a disaster prone country and stressed the need to continuously enhance our preparedness and risk reduction measures. He referred to 10 point-agenda for disaster risk reduction given by our Prime Minister during AMCDRR 2016 and urged the participants to draw concrete plans to implement this agenda into reality. He requested the disaster managers to give proper consideration to geo-physical condition of the particular State/UTs, while making any action plan for disaster risk reduction. Shri  R. K. Jain, Member, National Disaster Management Authority in his welcome address highlighted the achievements of Government of India in disaster risk reduction. A film emphasizing the theme that Disaster Management is Everybody’s Business was screened. Further, version 3.0 of National Database on Emergency Management (NDEM) was launched by Shri Rajnath Singh. This version of 3.0 is device independent and browser independent and equipped with latest resource mapping tools and audio and video conference facilities.  The Union Home Minister also chaired a Ministerial Session which was attended by the Union Minister of Women and Child Development Smt Maneka Sanjay Gandhi, Union Minister of Agriculture and Farmers Welfare Shri Radha Mohan Singh, Ministers of State for Home Affairs, Shri Hansraj Gangaram Ahir & Shri Kiren Rijiju and Ministers from states of Haryana, Jharkhand, Maharashtra, Rajasthan, Tamil Nadu and Uttar Pradesh. Prof Jagdish Mukhi, LG of Andaman and Nicobar Islands also participated.  Shri Rajnath Singh informed that growing population, unplanned urbanization and climate change are the new challenges posing new disaster risks to the country. He emphasized the primary role of States and Union Territories in disaster management and urged them to equip themselves for facing these new disaster risks. He lauded the initiatives and preparedness of States. He appealed to all the State/UTs to continuously upgrade their preparedness and plan for making the country disaster resilient. While stressing the need for political commitment, he emphasized the need for bilateral and regional cooperation among the States, Union Territories and Central Government.  Ministers from Union and States highlighted their initiatives in disaster risk reduction and endorsed their commitment to make the country disaster resilient by 2030 in line with the Prime Minister’s 10 point Agenda.Besides opening and Ministerial sessions, this NPDRR  meeting will have one Plenary Session, one session on outcomes of pre-events, four technical sessions on four priority areas of Sendai Framework for Disaster Risk Reduction, one technical session on monitoring of Sendai Framework and a closing cum valedictory session. Along the meeting, innovative ideas by start-ups in disaster management and best practices in disaster management by the States are displayed in the exhibition area.The meeting is being attended by over 1000 distinguished guests including State Ministers, Parliamentarians, Heads of Local Self Government, Heads of specialized disaster management agencies, academicians, representatives from private sector organizations, media and civil society organizations.

Home Minister Shri Rajnath Singh’s address at the second meeting of National Platform for Disaster Risk Reduction

The Union Home Minister Shri Rajnath Singh inaugurated the second meeting of National Platform for Disaster Risk Reduction here today. Following is the text of his address at the inaugural session:“आज मुझे आपदा प्रबंधन के राष्‍ट्रीय मंच National Platform for Disaster Risk Reduction (NPDRR) की दूसरी बैठक में आप सभी के साथ भाग लेते हुए अत्‍यंत हर्ष हो रहा है। जैसा कि आपको विदित है कि भारत विश्‍व के आपदाओं से सर्वाधिक प्रभावित होने वाले देशों में एक है। हमारी लगभग 50% से अधिक आबादी भूकंप, बाढ़, समुद्र तटीय  चक्रवात, सूखा और सुनामी से प्रभावित है। आपदाओं से होने वाले जान-माल की क्षति को प्रभावी तरीके से कम करने के लिए भारत सरकार ने एक Multi Stake Holder National Platform का गठन किया है। जिसकी पहली बैठक वर्ष 2013 में हुई थी, जिसमें केंद्र सरकार के संबंधित विभागों के मंत्रिगण, राज्यों के मंत्रीगण, अधिकारी, स्‍वयं सेवी संस्‍थाएं तथा technical institution के लोगों ने भाग लेकर अपना सार्थक योगदान दिया था। इस National Platform के गठन का मुख्‍य उद्देश्‍य सभी Stakeholders के साथ अपने अनुभवों को साझा करते हुए देश के लिए एक रणनीति बनाना है। साथ-ही-साथ, समय-समय पर उठाए गए कदमों का review करना एवं राज्यों के साथ coordination स्‍थापित  करना है। आज की बैठक का मुख्‍य उद्देश्‍य Disaster Management  एवं Sustainable Development  की दिशा में हम कैसे सक्षम हों, इस पर चर्चा करना तथा प्रभावी रूप से काम करने के लिए आगे की रणनीति तय करना है।

आपको याद होगा कि वर्ष 2015 में विश्‍व स्‍तर पर 03 महत्वपूर्ण समझौते हुए है-

  • Sustainable Development Goal,
  • Sendai Frame Work for Disaster Risk Reduction और
  • COP 21- Paris Agreement on Climate Change.

भारत इन तीनों समझौतों में Signatory है। प्राकृतिक आपदाओं से निपटने की दृष्टि से, यह तीनों ही एक दूसरे से जुडी हुई हैं। क्‍योंकि अब जोर आपदा के पश्चात् response पर ही नहीं, बल्कि आपदा के जोखिम को कम करने पर है। जैसा की होना चाहिए।  अगर रिस्क को कम करना है, तो इंसान की गतिविधियों से climate change नहीं हो, यह ही आवश्यक है। इसी प्रकार विकास और प्रगति – जो स्वयं अपनी जगह आवश्यक एवं महत्‍वपूर्ण हैं , आम आदमी के living standards और quality of life को बेहतर करने के लिए, ऐसे विकास से ecology or environment का degradation नहीं हो , यह भी आवश्यक है।  अतः यह अंतरराष्ट्रीय  समझौते एक कड़ी के भाग हैं और किसी एक उद्देश्य, उदाहरणार्थ disaster risk reduction  को पाने हेतु, अन्य दो उद्देश्‍यों को पाना भी  आवश्यक है।इस महत्वपूर्ण inter -dependence की महत्‍ता को समझते हुए, उसे focus में रखते हुए, दिल्ली में अभी हाल ही 2016 में Asian Ministerial Conference on Disaster Risk Reduction (AMCDRR) का आयोजन किया गया था। इसमें Disaster Risk Reduction के लिए Asia Regional Action Plan को adopt किया गया। इसी क्रम में हम  इन दो दिन की NPDRR की बैठक में, आपदा के Risk को कम करने हेतु इसके विभिन्‍न components यथा Prevention, Mitigation, Preparedness, Response, Reconstruction और Rehabilitation पर पूर्णरूप से विचार कर, वर्ष 2017 से वर्ष 2030 तक का Action Plan बनायेंगे।आपदाओं के Risk को कम करना अब हमारे लिए choice नहीं है अपितु एक अहम जरूरत है। मुझे याद है कि वर्ष 1999 के ओडिशा Super Cyclone में करीब 10 हज़ार से अधिक लोगों की जाने गई थी और अरबों रुपयों का आर्थिक नुकसान देश ने उठाया था। उसके पश्‍चतात वर्ष 2001 में गुजरात में आए भूकंप और वर्ष 2004 में आई सुनामी ने देश को झकझोर दिया था। तब से, lessons लेते हुए, भारत वर्ष में आपदा प्रबंधन के approach में paradigm shift हुआ है।देश में संस्‍थागत  एवं योजनाबद्ध तरीके से आपदा के प्रभाव को कम करने हेतु विभिन्‍न प्रयास किए गए हैं, जिसमें Disaster Management Act, 2005, Disaster Management Policy 2009, NDRF, NDMA और NIDM का गठन महत्‍वपूर्ण है। इसी क्रम में वर्ष 2013 में प्रथम National Platform for Disaster Risk Reduction (NPDRR)  का गठन किया गया था।विश्‍व स्‍तर पर भी United Nations  के द्वारा आयोजित विभिन्‍न बैठकों में भारत ने अपना योगदान दिया है। वर्ष 2015 में जब जापान में Sendai Framework पर चर्चा हो रही थी, तो मैंने स्वयं इस बात पर ज़ोर दिया था कि आपदा के Risk को कम करने में सरकार के साथ-साथ अन्‍य संगठनों की भूमिका भी उतनी ही महत्वपूर्ण होनी चाहिए जितनी की सरकार की है।Sendai Framework  की केवल 03 महत्‍वपूर्ण बिन्‍दुओं को अगर हम देखें तो इनमें आपदा से होने वाले मृत्यु, प्रभावित होने वाले लोगों की संख्‍या तथा आर्थिक नुकसान को कम करना शामिल हैं। Development के विभिन्‍न योजनाओं को बनाते वक्‍त हमें इस बात का ख़ास ध्‍यान रखना होगा कि future investments, इन सभी factors को कम करने में कैसे मददगार साबित होंगे।हम लोग यह सुनकर पले-बढ़े हैं कि prevention is better than cure”। विश्‍व में कई देशों ने इसे धरातल पर करके दिखाया है। भारत वर्ष भी इस प्रयास में पीछे नहीं रहा है। मैं दो उदाहरण आपके समक्ष रखूँगा ।  पहला – National Cyclone Risk Mitigation Project, जो कि विश्‍व का शायद सबसे बड़ा इस तरह का कार्यक्रम है।  इस कार्यक्रम ने जिन तटीय राज्यों में early warning को सुदृढ किया है, स्थानीय स्तर पर cyclone shelters बनायें हैं, वहाँ पर चक्रवातों से होने वाली मृत्यु दर को हम 95 % तक काम कर पाए हैं।  दूसरा – हमारे पर्वतीय इलाकों में भूकंप आने के बाद जो पूर्ण निर्माण हुआ, और जहाँ जहाँ भूकंप अवरोधी मकान बनाये गए, वहाँ भले ही इन मकानों की लागत, 8 से 10 % अधिक रही है।  लेकिन भूकंप की प्रबल संभावना वाले इन इलाकों में, इन मकानों को बाद में, आने वाले भूकम्पों से न के बराबर क्षति हुई है। हम कह सकते हैं की हर एक रुपये की अतिरिक्त लागत से लगभग 10 की बचत हुई है। इसी तरह, वर्ष 2001 में आए गुजरात के भूकंप के पश्‍चात जो long term recovery के लिए कदम उठाए गए, उसे global best practices के रूप में पहचान मिली है। इसके लिए गुजरात सरकार को UN Sasa Kava award से सम्‍मानित किया गया है। यहाँ तक कि, इसके फलस्‍वरूप Sendai Frame Work में भी build  back better को प्राथमिकता दी गई है।वर्ष 2013 एवं 2014 में आए Cyclone Phailin एवं Hudhud में हमनें नुकसान को काफी कम किया। इसका अनुमान आप ऐसे लगा सकते हैं कि इनमें मृतकों की संख्‍या क्रमश: 42 एवं 24 रही हैं। जबकि इसी से comparable ओडिशा के 1999 के Super Cyclone में करीब 10,000 व्यक्तियों की मृत्‍यु  हुई थी।हाल ही में केन्द्र सरकार ने सभी मंत्रालयों से Disaster Management Plan बनाने का अनुरोध किया है। जिसमें अपने-अपने क्षेत्र के Risk को कम करने के लिए आवश्‍यक कदम उठाने का अनुरोध किया गया है। मुझे बताया गया है कि कृषि मंत्रालय द्वारा पशुधन की सुरक्षा के लिए “Livestock Disaster Management Plan” बनाया है जो विश्‍व में अपने तरह का पहला प्रयास है।इसी तरह, देश के अन्‍य राज्‍यों में भी कुछ सराहनीय व अनुठे प्रयास किये जा रहे हैं।  Early Warning System, Cyclone Shelter का निर्माण, Saline Embankments का निर्माण, मज़बूत Disaster Response Force का  केंद्र एवं राज्य स्‍तर पर गठन तथा community preparedness एवं capacity building,  इस दिशा में उठाये गये महत्‍वपूर्ण कदम हैं।इन उदाहरणों से यह बात बिल्‍कुल स्पष्ट है कि ”अगर हो पूरी तैयारी तो आपदा नहीं है भारी।” अत: हम सभी को मिलकर आपदाओं के Risk को कम करने के लिए पहले से ही पहल करनी होगी। माननीय प्रधानमंत्री जी ने AMCDRR, 2016 के दौरान अपने उद्बोधन में 10 सूत्रीय agenda points का जिक्र किया है। इस platform के माध्‍यम  से उन बिंदुओं  पर क्रमवार चर्चा करते हुए भविष्‍य के लिए समयबद्ध कार्य योजना बनायी जाएगी । इन कार्य योजनाओं के मूल्‍याकंन हेतु एक व्‍यवस्‍था की रूपरेखा की संरचना पर भी गहन विचार-विमर्श किया जाना अपेक्षित है। ताकि हमें इस बात का पता चलता रहे कि हम इस दिशा में कितना प्रयासरत हैं। और इसमें हमनें साझा रूप से कितनी सफलता हासिल की है।भारत ने आपदाओं को कम करने के लिए दक्षिण एशियाई देशों के बीच क्षेत्रीय सहयोग को सदृढ़ करने में अग्रणी भूमिका अदा की है। इस क्रम में नई दिल्‍ली में सार्क आपदा प्रबंधन केन्‍द्र स्‍थापित किया गया है। इसके साथ-साथ भारत BRICS, BIMSTEC, East Asia क्षेत्रों में भी अपना सहयोग देता रहा है। इसी क्रम में आपदा प्रबंधन हेतु विशेष Satellite  दक्षिण एशियाई देशों के लाभ के लिए पिछले सप्‍ताह प्रक्षेपित किया गया है। माननीय प्रधानमंत्री जी के इस कदम से Disaster Risk Reduction के क्षेत्र में हमारे देश का नाम  एक अग्रणी देश के रूप में पुन: स्‍थापित हुआ है।मुझे बताया गया है कि इस बैठक के पूर्व महत्‍वपूर्ण  विषयों पर 14 pre events, NDMA एवं NIDM द्वारा आयोजित किए गए हैं। जो कि इस दिशा में एक सराहनीय पहल है। इन चर्चाओं में स्‍थानीय स्‍तर पर क्षमता निर्माण, inclusiveness, women empowerment एवं national plan आदि मुद्दों पर गहन विचार-विमर्श कर सिफारिशें की गई जिन पर इस बैठक में चर्चा कि जाएंगी।इस बैठक में समाज के vulnerable community पर विशेष action plan बनाने हेतु मैं appeal करता हूँ और आशा करता हूँ कि इस पर महत्‍वपूर्ण  चर्चा होगी।अभी पिछले सप्‍ताह की “THE ECONOMIST” Magazine ्‍ज्‍ीम न्‍न ्‍दूके एक caption, “Death is Inevitable but a bad death is not” ने मेरा ध्‍यान अपनी ओर आकर्षित किया। इसका तात्पर्य यह है कि मृत्‍यु को तो हम रोक नहीं सकते परन्तु आपदा से होने वाली असामयिक मृत्‍यु को रोका जा सकता है। परिवार के एक सदस्‍य  की असामयिक मृत्‍यु से सम्पूर्ण परिवार तहस-नहस हो जाता है। इसी बात का ध्‍यान रखते हुए हमें “Preventing the preventable deaths” की दिशा में पूरी क्षमता से कार्य करना चाहिए।अंत में मैं आप सभी का ध्‍यान National Plan की ओर आकृष्ट करना चाहूंगा जिसको माननीय प्रधानमंत्री जी ने जून, 2016 में release किया है। इस Plan का उद्देश्‍य भी भारत को Disaster Resilient  बनाना तथा जान और माल के नुकसान में कमी लाना है।हमारी सरकार प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी जी के नेतृत्व में Disaster से हो रहे नुकसान को कम करने के लिए अपनी कटिबद्धता को दोहराते हुए Sustainable Development को प्राप्‍त करने के लिए निरंतर प्रयासरत है।भारत सरकार द्वारा इस हेतु आवश्‍यक वित्तीय व्यवस्थाएं भी की गई है। राज्यों के प्रयास को supplement करने हेतु SDRF की समग्र निधि को 33580.93 करोड़ रु. (2010-15) से बढ़ा कर 2015-20 की अवधि के लिए 61220 करोड़ रुपये कर दिया गया है। Sustainable Development एवं Disaster resilient development  के लिए यह आवश्यक है कि केन्‍द्र सरकार द्वारा चलाए जा रहे कौशल विकास, कृषि सिंचाई योजना, सांसद आदर्श ग्राम योजना, Digital India, स्‍वच्‍छ भारत अभियान तथा बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम आदि के साथ Disaster Mitigation Programmes की सही synergy  स्‍थापित  की जाये ।विकास एवं आपदा प्रबंधन में एक गहरा रिश्‍ता है। सही विकास, जो Risk को कम करे, उसमें आपदा प्रबंधन विभाग के अलावा अन्‍य संबंधित stakeholders के साझा प्रयास से ही resilient development के लक्ष्‍य को प्राप्‍त किया जा सकता है। हम उम्‍मीद करते हैं कि आने वाले वर्ष, जो Technology Oriented है, उसकी सहायता से हम इस बड़े चुनौती का बड़ी ही आसानी से सामना कर सकेंगे।Disaster Risk, Dynamic है। कल का Risk, आज के Risk से भिन्‍न हो सकता है। अत: भविष्‍य की रूपरेखा उसी के अनुरूप flexible बनाए जाए, जिसमें बदलाव को adopt  किया जा सके। मैं बैठक में आए सभी महानुभावों का स्‍वागत करते हुए बैठक की सफलता की शुभकामनाएं देता हूँ और मैं यह उम्‍मीद करता हूँ कि हम सभी संगठित रूप से देश को एक सुंदर और सु‍रक्षित भविष्‍य देने का भरोसा दे सकते हैं।”

About surendrahota

Leave a Reply

%d bloggers like this:
Skip to toolbar